Monday, September 20Welcome to hindipatrika.in
Shadow

अन्य

Instagram पर डेस्कटॉप/लैपटॉप के माध्यम से कैसे फोटो अपलोड करें?

Instagram पर डेस्कटॉप/लैपटॉप के माध्यम से कैसे फोटो अपलोड करें?

इंटरनेट, मुख्य, सोशल मीडिया
इंस्टाग्राम एक फोटो और वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म है जिसका इस्तेमाल अधिकतर लोग करते है | इंस्टाग्राम फेसबूक के स्वामित्व वाली प्लेटफॉर्म है जिसपर एक रिपोर्ट के अनुसार रोज 400 मिलियन यूजर ऐक्टिव रहते है | इस प्लेटफॉर्म को वैश्विक स्तर पर सबसे बड़े फोटो और वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म होने का दावा किया जाता है | इस प्लेटफॉर्म का ज़्यादा तर स्मार्टफोन के यूजर इंस्टाग्राम एप के माध्यम से उपयोग करते है क्योंकी इसके वेब संस्करण सुविधायें बहुत सीमित है और जो वेब सुविधायें है भी उसके बारे मे काफी कम लोगों को पता है | काफी लोगों ने इंस्टाग्राम को अपने कंप्यूटर या लैपटॉप पर एक्सेस भी किया होगा लेकिन सायद आप को फोटो अपलोड करने का ऑप्शन नहीं मिला होगा, इसका सबसे बडा कारण है की इंस्टाग्राम के फेसबुक स्वामित्व ने अपने इस प्लेटफॉर्म को कंप्युटर पर उपयोग करने की सुविधा ही नहीं दी है। क्योंकी कंपनी भी चाहत...

मर्दों के संग चलना है

कविता, हिन्दी साहित्य
चाँद की तरह निकलना है और सूरज जैसे ढलना है। और  बराबर  हो  तुमको  मर्दों   के  संग  चलना  है। जरा-जरा सी बात पे क्यूँ रो पड़ती हो तुम अँधेरे से अब भी क्यूँ  इतना डरती हो तुम काली नजरों से सबकी बचना  पड़ता है तुमको फिर जाने क्यों इतना शृंगार सुघर करती हो तुम घर से बाहर जब निकलो साथ किसी के निकलना है। और  बराबर   हो   तुमको  मर्दों  के  संग  चलना  है। कोख में अपनी  रख जिसको  तुम दुनिया में लाती हो निज औलाद को भी तुम अपना नाम कहाँ दे पाती हो छोड़ के इस घर को तुमको उस घर में जाना पड़ता है, बेटी कभी, कभी  बीवी, फिर  तुम  माँ  बन  जाती हो हो अनुकूल समय के ही तुमको हर रोज बदलना है। और  बराबर  हो  तुमको  मर्दों  के  संग  चलना&n...
माँ वक्त वो ना रहा….

माँ वक्त वो ना रहा….

कविता, चिट्ठी पतरी, मुख्य, सोशल मीडिया, हिन्दी साहित्य
माँ वो वक्त वो ना रहा... ज़ब बचपन माँ तुम्हारे आंचल की छाँव में गुजरता था... ना कोई चिंता होती तब ना कोई फ़िक्र का पहरा रहता  था __ जब रोती कभी आँखें तो माँ चुप कराया करती थी.... अपने प्यार के उस आँचल में मुझे कही छुपाया करती थी.... जब रोज पापा के डर से सरारत कम हो जाया करती थी... किसी का डांटना चिल्लाना भी तब उतना नहीं अखरता था... आज की इस दुनिया मे सब उल्टा सा लगता है__ ना वो बचपन का प्यार अब कही भी दिखता है__ तब मतलब, स्वार्थ, पैसो की दुनिया भी नहीं होती थी__ जलन,  ईर्ष्या, द्वेष की ज्वाला भी ना होती थी __ आज तो हर पग-पग पर पैरों मैं जंजीरें हैँ__ ठुकराते हैँ सब यहां सब खूब ही मुझे रुलाते हैं__ झूठें किस्सों के किरदार भी मुझको कभी बनाते हैं___ माँ तब मे टूट जाता हु सबसे रूठ जाता हुँ __ तुझे याद करके माँ मैं अक्सर रो भी जाता हुँ __...
बच्चों का नाम रखते वक्त् न करें ये बड़ी गलतियां .. बच्चों के नाम से जुड़ा होता है भविष्य

बच्चों का नाम रखते वक्त् न करें ये बड़ी गलतियां .. बच्चों के नाम से जुड़ा होता है भविष्य

ज़रा हटके, जीवन वृत्त, व्यक्ति चित्र
  दुनिया में सायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसका कोई नाम नहीं हो । लोग कहते है की व्यक्ति के जीवन में नाम उतना महत्वपूर्ण नहीं होता जितना की कर्म, क्यों की अच्छे कर्म से ही व्यक्ति खुद और अपने कुल का नाम रोशन करता है । व्यक्ति के जीवन में नामकरण संस्कार महत्वपूर्ण संस्कारों में से एक है, व्यक्ति के कर्मो की वास्तविक पहचान उसका नाम ही दिलाता है। कुछ अक्षरों का समूह जिससे व्यक्ति को  जीवनभर उसकी एक पहचान बन जाता है। इस लिए हर एक माता पिता को अपने शिशु के नामकरण के दौरान कुछ बाते खासतौर पर ध्यान में रखनी चाहिए।   1. बुजुर्गों व स्वर्गीय परिजनों के नाम हमारे समाज में अक्सर लोग ऐसा नाम रखते है जो सुनने में अच्छा लगता है लेकिन कुछ ऐसे भी नाम मिले है जिसका अर्थ कुछ अजब  - गजब सा होता है या अर्थविहीन होता है। नाम रखते समय माता-पिता और परिवार को ध्यान रखना चाहिए की नाम...
माइनस 20 ड‍िग्री में साधु बदरीनाथ में लगाते हैं  ध्यान, जहाँ अआप लोगो का हिम्मत भी नहीं करता खुले में घूमने की

माइनस 20 ड‍िग्री में साधु बदरीनाथ में लगाते हैं ध्यान, जहाँ अआप लोगो का हिम्मत भी नहीं करता खुले में घूमने की

धर्म-दर्शन
हिंदुओं के आस्था का प्रतिका भगवान बद्रीनाथ धाम (Lord  Badrinath or Badrinarayan)  भले ही कपाट बंद हो चुके हैं लेकिन इस भगवन बदरीनाथ धाम में जहाँ माइनस 20 डिग्री पर पहुंच ठिठुरने वाली कड़क ठंडी में भी अनेक साधु - संत आज भी भगवान् की भक्ति में लीन हैं । इन्हे देख लगता है की इनके सामने कड़क ठंडी ने भी घुटने तक दिया है लगता है की इनके शरीर वज्रदेह बन चूका है । पूरा उच्च हिमालयी सर्दियों Himalayan Winter  में बदरीनाथ धाम सहित यह क्षेत्र 4 से 6 फीट बर्फ से ढक जाता है फिर भी साधक की साधना भंग करने की तगत इस कड़ाके की ठण्ड में भी नहीं है । साधु जो माया के बंधन को तोड़ भगवान् के द्वार तक पहुंचे हैं । ये अपने ही साधना में लीन रहते है न तो उन्हें ठंडे पानी Cold water से कोई फर्क पड़ रहा है और न ही बर्फबारी Snowfall से । इस जगह पर भगवान् बदरीनाथ धाम  Bhagwan Badrinath Dham में कपाट बंद होने क...
जिंदगी के पड़ाव

जिंदगी के पड़ाव

कविता, मुख्य, हिन्दी साहित्य
  जिंदगी के पड़ाव पर हमनें चलते देखा , हमनें रुकते देखा | हमनें थकते देखा, थक कर रुक जाते और मुरझाते देखा, धरा के इस पञ्च तत्व में, विलय शून्य बन जाते देखा जिंदगी के पड़ाव पर हमनें चलते देखा , हमनें रुकते देखा || थक गए चलते-चलते, मंजिल का विश्राम नहीं, ऐसे मानों राह बड़ा, पथ का कोई ज्ञान नहीं | खोज रहे उस पावक पथ को, निज पाओं से चलते-चलते, जब थक कर चूर हुए अरमान, तब आसमान की ओर भी देखा, उजियारे भी चले गए, अब अंधकार के बादल बैठे, उन्नत मस्तक अरमानों का, अपमानों से सम्मानों तक, कभी मिलते देखा, कभी लड़ते देखा, कभी चलते देखा, कभी रुकते दखा, जिंदगी के पड़ाव पर हमनें चलते देखा , हमनें रुकते देखा || कभी पावों के निचे अंगारें, कभी प्रलय की घोर घटायें, कभी अपनों के कल कहार में, घोर घृणा और दीर्घ हार में , नफरत के इस अंगार में हमनें सुलगते देखा, हमनें धधकते देखा, नफरत के इस...