Wednesday, May 25Welcome to hindipatrika.in

अन्य

अब यूजर के लिए WhatsApp में आया Instagram और Facebook Messenger का ये फीचर, जानने के लिए पूरा पढ़ें ।

अब यूजर के लिए WhatsApp में आया Instagram और Facebook Messenger का ये फीचर, जानने के लिए पूरा पढ़ें ।

इंटरनेट, मुख्य, सोशल मीडिया
Emoji Reaction के बारे ने सायद आप जानते होंगे जो Instagram और Facebook Messenger में पहले से मौजूद है। इस फीचर को व्हाट्स ने पिछले महीने Emoji Reaction को लाया था, ये फीचर अब यूजर के लिए जारी कर दिया गया है जीसे आप WhatsApp के Android या iOS वर्जन दोनों में उपयोग कर सकते है। पहले इस फीचर को कुछ यूजर को दिया गया था लेकिन अब ये काफी यूजर्स के लिए उपलब्ध है हो चुका है, आप चाहें तो अपना WhatsApp चेक कर सकते है, एक खास बात और है की इस फीचर को आप पर्सनल या ग्रुप चैट में यूज कर सकते है। क्या ये फीचर केवल मोबाईल यूजर के लिए है ? मुझे पता है ये सवाल काफी यूजर के मन में पहले से चल रहा होगा, लेकिन मै आप को इस article में पूरी जनरी दूंगा। पहली बात ये की इस फीचर पर WhatsApp काफी समय से काम कर रहा था Android और iOS के साथ ही वेब वर्जन पर भी Emoji Reaction काम कर रहा था जो अब फिनली सबके
Akshara Singh का नया छठ गाना हुआ वायरल – ‘बड़ा भाग पवले बाड़े’

Akshara Singh का नया छठ गाना हुआ वायरल – ‘बड़ा भाग पवले बाड़े’

भोजपुरी सुपरस्टार अक्षरा सिंह का नया गाना "बड़ा भाग पवले बाड़े" हुआ वायरल, इस गाने के रिलीज के 1 दिन बाद से ही इंटरनेट पर खूब सुर्खिया बटोर रहा है, इस गाने को फैंस खूब पसंद कर रहे है। आप को बात दें की ये गाना 7 नवंबर को रिलीज हुआ इसके बाद मात्र 1 दिन में वायरल हो गया, इस गाने को लोक आस्था के महापर्व छठ को ले कर गाया गया है, गाने में अक्षरा सिंह इतने भावुक हो कर फिल्माया है जिसे लोग खूब पसंद कर रहे है। var aax_size='300x250'; var aax_pubname = '98998190810c-21'; var aax_src='302'; महापर्व छठ की झलक देख एमोशनल हुए फैंस इस गाने में भोजपुरी सुपरस्टार अक्षरा सिंह ने एक सूप बनाने वाली “डोम” जाती की किरदार में नजर आई हैं, गाने में छठ में उपयोग कीये जाने वाले सूप बेचते हुए एक घर जाती हैं लेकिन वहाँ उन्हें “डोम” जाती के चलते एक औरत उसे बुरी तरह से दुत्कार
Bhai Dooj, Puja Vidhi, Mantra in Hindi: जानिए पूजा की पारंपरिक विधि – विधि से करें भाई दूज के दिन तिल

Bhai Dooj, Puja Vidhi, Mantra in Hindi: जानिए पूजा की पारंपरिक विधि – विधि से करें भाई दूज के दिन तिल

ये पर्व भाई-बहनों को समर्पित है, इस पर्व को कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है, हिंदू धर्म में इस तिथि का विशेष महत्व है, इस पर्व को यम द्वितीया भी कहते हैं। यह परंपरा भारतीय परिवारों के एकता यहां के नैतिक मूल्यों पर टिकी होती है जो हमारे समाज के नैतिक मूल्यों और उसके पवित्रता को दर्शाती है। इस परंपरा के माध्यम से हमें भाई-बहन के आत्मीय रिश्ते को दर्शाता है जो एक भारतीय की अटूट रिस्तों को एक धागे में पिरोता है। आप ने रक्षा बंधन के बारे में तो सुना ही होगा जिसमे बहन अपने भाई को राखी बांधती है और भाई के लिए लम्बे आयु की कामना करती है। रक्षा बंधन जो एक भाई और बहन के प्यार का अटूट रिस्ता परंपरा है लेकिन क्या आप ने कभी भाई दूज के बारे में जानने की कोसिस की है ? मै इस Article में भाई दूज की परंपरा और उसके पीछे के वे सभी बातों की चर्चा करने वाला हूँ। आप इस जा
ऑस्ट्रेलिया से कनाडा और इंडोनेशिया से यूनाइटेड किंगडम तक, इन 10 देशों में भी धूमधाम से मनाई जाती है दिवाली का प्रकाश महापर्व

ऑस्ट्रेलिया से कनाडा और इंडोनेशिया से यूनाइटेड किंगडम तक, इन 10 देशों में भी धूमधाम से मनाई जाती है दिवाली का प्रकाश महापर्व

दिवाली जो की एक प्रकाश का पर्व है, एक ऐसी प्रकाश की कल्पना की जाती है जिसमे दुनियां में लोगों के अंदर जो अंधकार फैला है उससे बाहर निकाल कर प्रकाश की ओर जाने की कामना की जाती है। इस दिवाली के माध्यम से दुनियाँ के हर इंसान के जीवन में खुशियां आए इस बात की कामना की जाती है।   क्या आप जानते हैं दीपावली का महापर्व सिर्फ भारत तक सीमित नहीं है. इसकी रोशनी की चमक सात समंदर पार कई देशों तक फैली हुई हैं. दिवाली का त्योहार भारत के अलावा कई देशों में धूमधाम से मनाया जाता है । दिवाली के बारे में मै आप को एक खास बात बताता हूँ, जो बहुत ही कम लोगों को पता होगा । आज के बदलते समय के अनुसार दिवाली का पर्व भारत के अलावा अब दुनियाँ भर के लगभग 200 से अधिक देशों में मनाया जाता है जिसमे से कुछ ऐसे देश है जहां इसे के विशेष रूप से मनाया जाता है। माननीय नरेंद्र मोदी जी ने इन 8 सालों मे
दिवाली के दिन माँ  देवी लक्ष्मी की पूजा क्यों की जाती है ?

दिवाली के दिन माँ देवी लक्ष्मी की पूजा क्यों की जाती है ?

मुझे पता है काफी लोगों के ये सोचते है की जब प्रभु श्रीराम जी के अयोध्या आने के खुशी में दिवाली मनाई जाती है तो फिर देवी लक्ष्मी जी की पूजा क्यों की जाती है ? इसके पीछे भी एक पौराणिक मान्यता है। चलिए हम इसे भी जानते है। दूसरी पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भागवत की मना जाए तो उसमे लिखा है की समुन्द्र मंथन के दौरान कार्तिक महीने की अमावस्या पर देवी लक्ष्मी प्रगत हुई थी और इसी मान्यता से सम्बंधित वाल्मीकि रामायण मे लिखा गया है की इस दिन देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का जा के ही दिन विवाह हुआ था, इसलिए इस दिन सबके घरों में लक्ष्मी और विष्णु की पूजा की जाती है । माँ लक्ष्मी धन की देवी है और धन से सुख - समृद्धि आती है इस लिए मत लक्ष्मी की पूजा की जाती है ताकि की कृपा से लोगों के जीवन मे खुशहाली क्योंकी माँ लक्ष्मी हमेसा अपने भक्तों पर कृपया परसती रहती है ।
Instagram पर डेस्कटॉप/लैपटॉप के माध्यम से कैसे फोटो अपलोड करें?

Instagram पर डेस्कटॉप/लैपटॉप के माध्यम से कैसे फोटो अपलोड करें?

इंटरनेट, मुख्य, सोशल मीडिया
इंस्टाग्राम एक फोटो और वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म है जिसका इस्तेमाल अधिकतर लोग करते है | इंस्टाग्राम फेसबूक के स्वामित्व वाली प्लेटफॉर्म है जिसपर एक रिपोर्ट के अनुसार रोज 400 मिलियन यूजर ऐक्टिव रहते है | इस प्लेटफॉर्म को वैश्विक स्तर पर सबसे बड़े फोटो और वीडियो शेयरिंग प्लेटफॉर्म होने का दावा किया जाता है | इस प्लेटफॉर्म का ज़्यादा तर स्मार्टफोन के यूजर इंस्टाग्राम एप के माध्यम से उपयोग करते है क्योंकी इसके वेब संस्करण सुविधायें बहुत सीमित है और जो वेब सुविधायें है भी उसके बारे मे काफी कम लोगों को पता है | (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); काफी लोगों ने इंस्टाग्राम को अपने कंप्यूटर या लैपटॉप पर एक्सेस भी किया होगा लेकिन सायद आप को फोटो अपलोड करने का ऑप्शन नहीं मिला होगा, इसका सबसे बडा कारण है की इंस्टाग्राम के फेसबुक स्वामित्व ने अपने इस प्लेटफॉर्म को कंप्यु

मर्दों के संग चलना है

कविता, हिन्दी साहित्य
चाँद की तरह निकलना है और सूरज जैसे ढलना है। और  बराबर  हो  तुमको  मर्दों   के  संग  चलना  है। जरा-जरा सी बात पे क्यूँ रो पड़ती हो तुम अँधेरे से अब भी क्यूँ  इतना डरती हो तुम काली नजरों से सबकी बचना  पड़ता है तुमको फिर जाने क्यों इतना शृंगार सुघर करती हो तुम घर से बाहर जब निकलो साथ किसी के निकलना है। और  बराबर   हो   तुमको  मर्दों  के  संग  चलना  है। कोख में अपनी  रख जिसको  तुम दुनिया में लाती हो निज औलाद को भी तुम अपना नाम कहाँ दे पाती हो छोड़ के इस घर को तुमको उस घर में जाना पड़ता है, बेटी कभी, कभी  बीवी, फिर  तुम  माँ  बन  जाती हो हो अनुकूल समय के ही तुमको हर रोज बदलना है। और  बराबर  हो  तुमको  मर्दों  के  संग  चलना&n
माँ वक्त वो ना रहा….

माँ वक्त वो ना रहा….

कविता, चिट्ठी पतरी, मुख्य, सोशल मीडिया, हिन्दी साहित्य
माँ वो वक्त वो ना रहा... ज़ब बचपन माँ तुम्हारे आंचल की छाँव में गुजरता था... ना कोई चिंता होती तब ना कोई फ़िक्र का पहरा रहता  था __ जब रोती कभी आँखें तो माँ चुप कराया करती थी.... अपने प्यार के उस आँचल में मुझे कही छुपाया करती थी.... जब रोज पापा के डर से सरारत कम हो जाया करती थी... किसी का डांटना चिल्लाना भी तब उतना नहीं अखरता था... आज की इस दुनिया मे सब उल्टा सा लगता है__ ना वो बचपन का प्यार अब कही भी दिखता है__ तब मतलब, स्वार्थ, पैसो की दुनिया भी नहीं होती थी__ जलन,  ईर्ष्या, द्वेष की ज्वाला भी ना होती थी __ आज तो हर पग-पग पर पैरों मैं जंजीरें हैँ__ ठुकराते हैँ सब यहां सब खूब ही मुझे रुलाते हैं__ झूठें किस्सों के किरदार भी मुझको कभी बनाते हैं___ माँ तब मे टूट जाता हु सबसे रूठ जाता हुँ __ तुझे याद करके माँ मैं अक्सर रो भी जाता हुँ __