Sunday, March 3Welcome to hindipatrika.in

मुख्य

बिहार की एक और बेटी जीवन की जंग हार चुकी है , क्या बिहार की बेटी रूबी कुमारी को इंसाफ मिलेगा ?

बिहार की एक और बेटी जीवन की जंग हार चुकी है , क्या बिहार की बेटी रूबी कुमारी को इंसाफ मिलेगा ?


Warning: printf(): Too few arguments in /home/u888006535/domains/hindipatrika.in/public_html/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
गुस्ताखी माफ, लेकिन क्या सच में लोग बिक जाते है, बहुत दुख हो रहा है , क्योंकि अब लोगों के जमीर भी मरने लगी है , दिखावे की राजनीति और मीडिया को देख कर अब डर लगता है । सेलेक्टेड तरीके से न्यूज कवर करने की बिचार धार को देख बहुत दुख होता है अब तो उम्मीद की एक दीप भी जलनी बंद हो गई है पुलिस ने अपना खाता बाही पूरा कर के थाने चली गई है, काफी अच्छे तरीके से फोटो शूट भी पुलिस ने लिया, उनकी तो प्रमोशन हो जाएगा बिहार के कैमूर जिला के मोहनियाँ थाना क्षेत्र के पानापुर गाँव के निवासी सुरेन्द्र प्रजापति की बेटी रूबी कुमारी का कुछ नरभक्षी लोगो ने रेप कर के मार दिया है, इस केस के कमजोर करने की भरसक कोसिस की जा रही है, गरीब लोगों को दबाने की कोसिस हो रही है | जानकारी के अनुसार जिन भी लगो ने ये सब कांड किया वे काफी पहुचें हुए और आमिर लोग है । जो पहले भी धमकी दिए थे की यदि कु
दिल का दौरा – मौत का बड़ा कारण ? क्या कहता है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

दिल का दौरा – मौत का बड़ा कारण ? क्या कहता है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

मुख्य, स्वास्थ्य
दिल का दौरा, जिसे मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन(myocardial infarction) के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब हृदय के एक हिस्से में रक्त का प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है, आमतौर पर कोरोनरी धमनियों में प्लाक का निर्माण होता है। यह हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकता है और अगर तुरंत इलाज न किया जाए तो यह जानलेवा हो सकता है। दिल का दौरा पड़ने के सबसे आम लक्षण हैं सीने में दर्द या बेचैनी, बाहों, कंधों, जबड़े, गर्दन या पीठ में दर्द, सांस की तकलीफ और पसीना। हालांकि, दिल का दौरा पड़ने वाले सभी लोगों में समान लक्षण नहीं होते हैं और कुछ लोगों में बिल्कुल भी लक्षण नहीं हो सकते हैं। Heart Attack दिल का दौरा - मौत का बड़ा कारण ? दिल का दौरा दुनिया भर में मौत का एक प्रमुख कारण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, हर साल 17.9 मिलियन लोग हृदय रोग से मरते हैं, जो कि सभी वैश्विक मौतों का 31%
पेट का कैंसर (Stomach cancer – गैस्ट्रिक कैंसर ) क्या है? – पेट के कैंसर को कैसे पहचानें ?

पेट का कैंसर (Stomach cancer – गैस्ट्रिक कैंसर ) क्या है? – पेट के कैंसर को कैसे पहचानें ?

मुख्य, स्वास्थ्य
पेट का कैंसर, जिसे गैस्ट्रिक कैंसर के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का कैंसर है जो पेट को प्रभावित करता है, जो पेट के ऊपरी हिस्से में स्थित एक अंग है। पेट पाचन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, भोजन को तोड़ता है और इसे अवशोषण और उन्मूलन के लिए तैयार करता है। जब कैंसर पेट में विकसित होता है, तो यह पेट की ठीक से काम करने की क्षमता में हस्तक्षेप कर सकता है, जिससे कई प्रकार के लक्षण और जटिलताएं हो सकती हैं। stomach cancer पेट का कैंसर कैंसर का अपेक्षाकृत दुर्लभ रूप है, लेकिन यह अभी भी एक गंभीर स्वास्थ्य चिंता है। कैंसर के चरण और स्थान के आधार पर, उपचार के विकल्पों में सर्जरी, विकिरण चिकित्सा और कीमोथेरेपी शामिल हो सकते हैं। पेट के कैंसर का पूर्वानुमान कैंसर के चरण और रोगी के समग्र स्वास्थ्य के आधार पर व्यापक रूप से भिन्न हो सकता है। पेट के कैंसर के कई प्रकार होते हैं, प

These 5 Ayurvedic herbs can boost stamina, all day Energetic

मुख्य, स्वास्थ्य
आयुर्वेद चिकित्सा की एक पारंपरिक प्रणाली है जिसकी उत्पत्ति 3,000 साल पहले भारत में हुई थी। यह इस विचार पर आधारित है कि स्वास्थ्य और कल्याण मन, शरीर और आत्मा के बीच एक नाजुक संतुलन पर निर्भर करता है। आयुर्वेदिक चिकित्सा इस संतुलन को बनाए रखने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए हर्बल उपचार सहित विभिन्न तकनीकों का उपयोग करती है। आयुर्वेद जिस एक क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करता है वह सहनशक्ति और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाना है। माना जाता है कि कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों में ऊर्जा देने वाले गुण होते हैं और इसका उपयोग सहनशक्ति को बढ़ाने और पूरे दिन समग्र ऊर्जा के स्तर में सुधार करने के लिए किया जा सकता है। इस उद्देश्य के लिए आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों में अश्वगंधा, गुडूची, शंखपुष्पी, विडंग और शतावरी शामिल हैं। माना जाता है कि इन जड़ी-बूटियों के कई लाभ हैं, प

डायबिटीज के मुख्य कारण क्या होते है? लक्षण, कारण, उपचार और रोकथाम

मुख्य, स्वास्थ्य
Diabetes(मधुमेह) एक पुरानी स्थिति है जो उच्च रक्त शर्करा के स्तर की विशेषता है। यह दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करता है और अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाए तो गंभीर स्वास्थ्य जटिलताएं हो सकती हैं। मधुमेह कई प्रकार के होते हैं, जिनमें टाइप 1, टाइप 2 और गर्भकालीन मधुमेह शामिल हैं। टाइप 2 मधुमेह, जो सबसे आम रूप है, अक्सर अनुवांशिक और जीवनशैली कारकों के संयोजन के कारण होता है, जैसे मोटापा और शारीरिक गतिविधि की कमी। कई पारंपरिक पौधे-आधारित उपचार हैं जिनका उपयोग मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए किया गया है। इन उपचारों का उपयोग विभिन्न संस्कृतियों में सदियों से किया जाता रहा है और इनमें मधुमेह-विरोधी गुण पाए गए हैं। मधुमेह के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले कुछ पौधों में शामिल हैं: Neem (नीम): नीम एक बड़ा पेड़ है जो भारत का मूल निवासी है और सदियों से पारंपरिक चिकित्सा में इसका उ

क्या आप भी हो गए हैं Cyber Fraud के शिकार? ऑनलाइन धोखाधड़ी होने पर घबराए नहीं, बस डायल करें ये 4 अंक, वापस मिल जाएंगे सारे पैसे!

इंटरनेट, मुख्य
आज के समय में Cyber Crime की घटनाएँ लगातार बढ़ती जा रही है , प्रतिदिन लोग किसी न किसी घटना का शिकार बनते जा रहे हैं। इन्हीं घटनाओं पर रोक लगाने के लिए सरकार ने एक Helpline Number - 1930 जारी किया जिसपर कॉल करके आप अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।  क्यों है इस नंबर की जानकारी होना जरुरी ? पूरी जानकारी न होने के कारण पहले लोग अपनी शिकायत दर्ज नहीं करवा पाते थे ,जिससे इस घटना होने की संभावना और बढ़ जाती थी और Cyber Fraud  की घटनाओं को और प्रोत्साहन मिलता था।  इन घटनाओं से मध्यम वर्गिये लोगो पर सबसे ज्यादा असर  पड़ता हैं , इन फ्रॉड के कारण कभी- कभी इन्हें अपनी जीवन भर की पूंजी से हाथ धोना पड़ता है।  इस हेल्पलाइन नंबर को सभी तक पहुंचाने के लिए सरकार ने कई तरह के प्रचार भी किए जिससे यह जानकारी अच्छी तरह सभी तक पहुँच सके।   Helpline number का प्रयोग करके

दिल की बीमारियों से बचने के लिए जानें, क्‍या खाएं और क्‍या नहीं?

मुख्य, स्वास्थ्य
हृदय रोग दुनिया भर में मृत्यु का एक प्रमुख कारण है और यह अक्सर उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मोटापे जैसे कारकों के संयोजन के कारण होता है। एक स्वस्थ आहार खाने से इन जोखिम कारकों को नियंत्रित करके हृदय रोग के विकास के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। दिल के स्वास्थ्य के लिए फलों, सब्जियों, साबुत अनाज और दुबले प्रोटीन से भरपूर आहार की सिफारिश की जाती है। फल और सब्जियां विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो हृदय और रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। साबुत अनाज जटिल कार्बोहाइड्रेट का स्रोत प्रदान करते हैं और फाइबर का अच्छा स्रोत हैं। फाइबर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और रक्त शर्करा नियंत्रण में सुधार करने में मदद करता है। मछली, चिकन, टर्की और बीन्स जैसे लीन प्रोटीन स्रोत अतिरिक्त संतृप्त और ट्रांस वसा के बिना आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं जो हृदय रो

हफ्ते मे दो बार इस फूड को खाने से कम होगा हार्ट अटैक का खतरा

मुख्य, स्वास्थ्य
कुछ खाद्य पदार्थों को नियमित रूप से खाने से दिल के दौरे का खतरा कम होता है। ऐसा ही एक भोजन मछली है, विशेष रूप से वसायुक्त मछली जैसे सामन, मैकेरल और सार्डिन। इस प्रकार की मछलियों में ओमेगा-3 फैटी एसिड अधिक होता है, जो शरीर में सूजन को कम करने और हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए दिखाया गया है। अध्ययनों से पता चला है कि सप्ताह में दो बार मछली खाने से दिल का दौरा पड़ने का खतरा 30% तक कम हो सकता है। मछली के अलावा, अन्य खाद्य पदार्थ जो दिल के दौरे के कम जोखिम से जुड़े हैं, उनमें फल और सब्जियां, साबुत अनाज, नट और बीज शामिल हैं। ये खाद्य पदार्थ फाइबर, विटामिन और खनिजों से भरपूर होते हैं, और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके और सूजन को कम करके हृदय स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। फलों और सब्जियों से भरपूर आहार का सेवन दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में विशेष रूप से प्रभावी पाया गया है। हृदय-स
तुलसीदास की रामचरित मानस में ढोल, गंवार, शूद्र, पशु और नारी का क्या है सही अर्थ ?

तुलसीदास की रामचरित मानस में ढोल, गंवार, शूद्र, पशु और नारी का क्या है सही अर्थ ?


Warning: printf(): Too few arguments in /home/u888006535/domains/hindipatrika.in/public_html/wp-content/themes/viral/inc/template-tags.php on line 113
प्रभु ( भगवान ) भल कीन्ह मोहि (मुझे) सिख (शिक्षा)दीन्हीं (दी)। मरजादा (मर्यादा) पुनि तुम्हरी कीन्हीं (आपकी ही बनाई हुई है) ॥ ढोल गंवार सूद्र पसु नारी। सकल (चेहरा ) ताड़ना (ध्यान देने ) के अधिकारी॥ तुलसी दास जी ने इसे अवधी भाषा में लिखा था इस दोहा का हिन्दी बर्जन आ चुका है जो इस प्रकार है प्रभु ( भगवान ) भल कीन्ह मोहि(मुझे) सिख (शिक्षा)दीन्हीं (दी)। मरजादा (मर्यादा) पुनि तुम्हरी कीन्हीं (आपकी ही बनाई हुई है) ॥ ढोल गंवार सूद्र पसु नारी। चेहरा ध्यान देने के अधिकारी॥ अर्थात ढोल = प्रभु ने अच्छा किया जो मुझे सिख (शिक्षा) दी , किंतु मर्यादा (जीवों का स्वभाव) भी आपकी ही बनाई हुई है। जैसे ढोल एक निर्जीव है उसका ख्याल नहीं रखेंगे तो खराब हो सकता है ढोल का सकल (चेहरा ) ताड़ना (ध्यान देने ) चाहिए मतलब ख्याल रखना चाहिए वरना खराब हो सकते है ढोल के लिए सिख (शिक्षा) जरूरत हो

भारत में कैंसर की सुनामी की चेतावनी | भारत में दुनिया के 20% कैंसर मरीज, डॉक्टरों की चेतावनी

मुख्य
कैंसर भारत में मौत का एक प्रमुख कारण है, आने वाले वर्षों में इस बीमारी की दर बढ़ने की उम्मीद है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के एक अध्ययन के अनुसार, भारत में कैंसर के मामलों की संख्या 2020 तक 1.5 मिलियन से अधिक और 2025 तक 2 मिलियन से अधिक होने का अनुमान है। अध्ययन में यह भी अनुमान लगाया गया है कि कैंसर 2020 तक भारत में सालाना 800,000 से अधिक मौतों का कारण। ऐसी कई आदतें हैं जो भारत में कैंसर के बढ़ते जोखिम में योगदान कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं: -तंबाकू का उपयोग: धूम्रपान और चबाने वाला तंबाकू भारत में कैंसर के लिए प्रमुख जोखिम कारक हैं, विशेष रूप से फेफड़े, मौखिक और गले के कैंसर के लिए। खराब आहार: प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, चीनी और संतृप्त वसा में उच्च आहार कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है, साथ ही मोटापे में योगदान कर सकता है, जो कैंसर के लिए भी एक जोखिम कारक है। -शारीर