Wednesday, May 13Welcome to hindipatrika.in

महिलाएं

गर्भवती औरत का कैसे रखें ख्याल?

गर्भवती औरत का कैसे रखें ख्याल?

महिलाएं
भारतीय संस्कृति में ब्रह्माण्ड को रचयिता के गर्भ के तौर पर देखा जाता है। इस संदर्भ में यहां महिला को एक ऐसे इंसान के तौर पर देखा जाता है, जो अपने भीतर एक पवित्र जगह रखती है। ऐसे में यहां इस पर बहुत ध्यान दिया गया है कि कैसे उसके साथ व्यवहार किया जाए, कैसे उस पावन स्थान को प्रतिष्ठित किया जाए, कैसे एक आदर्श बच्चे के जन्म के लिए उस स्थान को तैयार किया जाना चाहिए। हर मासिक चक्र के समय होता था कर्मकांड जब वह गर्भवती होगी तो उसका मासिक चक्र रुक जाएगा, लेकिन उसके हर चक्र के समय पर यहां एक विस्तृत कर्मकांड बताया गया है। कोई भी महिला आमतौर पर गर्भधारण के पहले से लेकर प्रसव तक ग्यारह कर्मकांडों से होकर गुजरती है। अगर उसके गर्भ का समय सामान्य है तो वह गर्भधारण के पहले से लेकर प्रसव तक ग्यारह मासिक चक्रों से होकर गुजरती है। इन ग्यारह चक्रों के लिए अपने यहां ग्यारह अलग-अलग कर्मकांड हैं, जहां उसके
गर्भवती होने के लिए कब क्या करे, क्या है सही समय

गर्भवती होने के लिए कब क्या करे, क्या है सही समय

प्रेगनेंसी-पेरेंटिंग, महिलाएं
स्त्री रोग विशेषज्ञ के अनुसार गर्भवती होने के लिए जितना सेक्‍स करना जरुरी है उतना ही ये भी जरुरी है की इस बात की जानकारी होनी चाहिए की सेक्स कब किया जाए | इस पहलू पर ना ध्यान देने से कई बार गर्भधारण करने में भी परेशानी भी आती है | क्या है कारण गर्भधारण न कर पाने के पीछे | वैसे तो गर्भधारण कर पाने के पीछे कई कारण हो सकते है| साथ जी इसके तहत महिला और पुरुष के शारीरिक और मानसिक दोनों कारण हो सकते है | ज्यादा तर तो ज्ञान और जानकारी का अभाव होना जिसके तहत सही समय पर सेक्स ना करना, सेक्स के बातो को ध्यान में ना रखना | (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); लेकिन इन सब के साथ और भी बहुत से कारण हो सकते है | गर्भ धारण करने का प्रयत्न करने से पहले वे दोनों अपना शारीरिक परीक्षण करवा लें क्योंकि इससे गर्भावस्था से संबंधित कई समस्याओं का निदान करने में सहायता मिलती है। जानें कि ग