Monday, September 26Welcome to hindipatrika.in

What is Laptop – लैपटॉप क्या है – Hindi Me

लैपटॉप एक एक प्रकार का कंप्युटर है जो की एक portable computer है, portable मतलाप इस computer को आप आसानी से अपने साथ कहीं भी ले कर जा सकते है। इस लिए इसे लोग notebook computer के नाम से भी जानते है।

इसे आप अपने बैग में रख कर ले कर भी जा सकते है और इसका जहां चाहें इस्तमाल कर सके है ।

लैपटॉप एक portable होने के कारण इसके साथ कुछ महत्वपूर्ण device लगी होती है जैसे keyboard , screen, trackball या trackpad जो माउस का कार्य करता है, battery, एक power adapter भी होता है जो battery को recharge करने के लिए करते है। इसके साथ ही बहुत से I/O ports लगे होते है जैसे की USB ports, wireless networking adapter, memory card adapter, आप जितना advance लैपटॉप लेंगे आप को उतने सारे feature मिलएगे ।  

इस दौड़ भारी दुनियाँ में लैपटॉप ने अपना खास जहग बना लिया है वहीँ Desktop Computer अब पुरानी बातें होने लगी है क्यूंकि लोग अब ऐसे कंप्युटर पसंद करते है जो पोर्टेबल हो जिसे आसानी से एक जगह से दूसरे जगह ले जाया जा सके।

Buy Dell Laptop

आज लैपटॉप और Tablets लोगों की जरूरत बन गई है ये ऐसे डिवाइस है जो लोगों को Portablity और Mobility के features उपलब्ध करते है इन्हीं सब बातों को ध्यान में रख कर मै आप को आज इस article में लैपटॉप की पूरी जानकारी देने वाला हूँ, और बताने वाला हूँ की Laptop kya hai?, इसके कितने प्रकार है? इसके advantages क्या है? ऐसे तममय बाते जो एक लैपटॉप बहुत ही खास बनती है मै उन सब बातों पर इस article में आप के साथ शेयर करने वाला हूँ।

अनुक्रम

  • लैपटॉप का इतिहास – History of laptop
  • लैपटॉप प्रकार –Type of Laptop
  • Laptop manufacturers के टॉप कॉम्पनी कौन है?
  • Laptop के Components क्या क्या होते हैं?
  • Laptop के फायदे
  • लैपटॉप के नुकसान
  • Laptop लेने से पहले किन इन बातों का रखें ध्यान
  • क्या Desktop computers की तुलना में laptop slow होते है?
  • Desktop computers तुलना में Laptop computers महागे क्यों होते है?

लैपटॉप का इतिहास – History of laptop

एलन के (Alan Kay) ने 1968  में Xerox PARC के एक निजी, व्यक्तिगत Portable Information Manipulator के बारे में सोचना शुरू किया। उनकी एक ऐसे कंप्युटर की कल्पना की थी जिसे आसानी से कहीं भी ले जा कर उपयोग कीया जा सके। इसके तरह उन्होंने एक 1972 में एक डायना बुक के नाम से प्रदर्शित किया, उसके बाद ही लोगों ने लैपटॉप निर्माण की चर्चा सुरू हुई। इसके बाद बहुत सारे कॉम्पनियों ने बिचार किया और लैपटॉप निर्माण के अवधारणा के साथ काम करना चालू किया।

1972 के बाद जब लैपटॉप का कान्सेप्ट तैयार हुआ था तब यह बिना फ्लिप वाले डिजाइन का यानि एक फैक्स मशीन की तरह दिखाता था। जिसमें 1989 तक Laptop मे Hard Disk नहीं हुआ करता था ।

पहला लैपटॉप 1980 लॉन्च लिया गया था लेकिन कंपनी ने 1982 दुनिया के सामने पहला लैपटॉप रखा था। इस लैपटॉप को EPSON नाम की कंपनी ने बनाया था, इस लैपटॉप के साथ प्रिंटर अटैच था। इस लैपटॉप को कंपनी ने Epson HX 20 नाम रखा था.

आप को बता दें की 1982 में लैपटॉप के Touchpad, हैंडराइटिंग रिकग्निशन, पॉइंटर पेन का फीचर जोड़ा गया जिसका स्तेमाल वर्तमान के लैपटॉप मे माउस के जगह कीया जाता है.

यदि आप mouse की बात करें तो इसकी परिकल्पना 1960 मे ही की जा चुकी थी. आज तो माउस के बहुत सारे प्रकार मार्केट में उपलब्ध है।

आप एक बात जान कर दंग रह जायेगे की April 3, 1981 में दुनिया का पहला commercially लैपटॉप 1981 में ही लौंच कर दिया गया था जिसका नाम Osborne 1 था उसका वजन लगभग 10 kg का था । आज जो अप लैपटॉप देखा रहें है ओ बिल्कुल हल्का और easy portable है वरना 10 किलो का लैपटॉप होता तो समझिए क्या होता।

जब ये लैपटॉप बना था तब ब्लैक और व्हाइट ही बना था 1991 में पावर मैनेजमेंट फीचर का इस्तेमाल किया कलर कलर डिस्प्ले का रूप दिया गया।

आप को बात दें की सन 1995 मे U.S.B को लौंच कीया जिसका उपयोग लैपटॉप और डेस्कटॉप मे कीया गया,

अब आप सोच रहें होंगे की लैपटॉप में laptop wi-fi कब आया?

आप को बात दें की लैपटॉप में laptop wi-fi सन 1999 के वाद आयें उससे पहले इंटरनेट केबल का ही सहारा लिया जाता थ।

लैपटॉप के प्रकार – Type of Laptop

यदि लैपटॉप के प्रकार की बात करें तो मार्केट में बहुत से प्रकार के उपलब्ध है

  • Traditional Laptop
  • Rugged Laptop
  • Notebook
  • Ultraportable
  • Chromebook.
  • MacBook. (iOS)
  • Business Laptop
  • Gamming Laptop
  • Convertible or Hybrid
  • Tablet as a laptop.

इस तरह के तमाम प्रकार के लैपटॉप मार्केट में उपलब्ध है जिसका उपयोग आप कर सकते है, वैसे मैंने आप को जीतने भी प्रकार के लैपटॉप बतायें है ये मुख्य प्रकार के है, इसके आलवे भी कुछ प्रकार है जो एक स्पेशल वर्क के लिए डिजाइन किया गया होता है जो पब्लिक डोमेन में बहुत ही कम उपलब्ध है।

Laptop Manufacturers के टॉप कॉम्पनी कौन है?

वैसे तो मार्केट मे Laptop manufacturers के बहुत से कॉम्पनी है लेकिन कुछ टॉप मुख्य कॉम्पनी जो इस प्रकार है।

  • IBM ()
  • Apple
  • Compaq
  • Dell
  • Toshiba
  • HP
  • Acer
  • Lenovo –
  • HCL (Hindustan Computer Limited)
  • ASUS

Laptop के Components क्या क्या होते हैं?

Laptop के components की बात करें तो एक लम्बी -चौड़ी लिस्ट बन जाएगी लेकिन मै आप के कुछ महत्वपूर्ण components के विषय में ही इस article में जानकारी शेयर करने वाला हूँ।

Processor

प्रोसेसर को Central processing unit (CPU) का controlling component कहते है processor कंप्युटर के speed को measure करता है जो एक सामान्य chip है जो pgigahertz (GHz) में. Multi-core processors में एक से ज्यादा core मेह्जुद होते हैं इस chip Speed ratings इन processors में indicate करती है यह अपने प्रत्येक core के अनुसार task और speed simultaneously मैनेज करता है।

Hard Drive

Hard drive इससे आप में से कभी लोग परिचित होंगे जो किसी भी laptop या desktop का memory storage होता है. इस ड्राइव में आप अपने programs install कर सकते है और ज्यादा files को भी save करती है. मार्केट में हार्ड ड्राइव अपने storage capacity के साथ आते है जैसे की 500gb, 1TB 2TB ऐसे तमाम storage capacity के साथ उपलब्ध है।

आप जब भी हार्ड ड्राइव लें तब आप ये ध्यान रखें की हार्ड ड्राइव की performance boost कितनी है जैसे 5,400 rpm, 7,200 या 10,000 rpm वाले hard drive देख कर ही लें, आप को बात दें की जितना rpm ज्यादा होगा उतना ही hard drive अच्छा काम करेगा।

RAM System Memory

RAM जिसका पूरा नाम है Random access memory जो की किसी भी कंप्युटर के लिए main component होता है जो की आप के कंप्युटर को तेज चलने में मदद करती है. आज के समय में आप अपने कॉनपुटेर को अच्छा perform करना चाहते है तो कम से कम 4 से 8 GB RAM होनी ही चाहिए।  

Laptop Screen

लैपटॉप के साथ जो display Screen लगा होता है वह एक पतली Liquid crystal display (LCD) screens या LED (Light Emitting Diode) screens का इस्तेमाल किया जाता है जो एक बेहतरीन picture आप को देती है। यह अपने खास resolution के लिए जानी जाती है इसीलिए इसे काफी लोग पसंद करते है।

Optical Drive

यदि Optical Drive की बात करें तो आज कल के बहुत से कंप्युटर में अब नहीं या रहे है आप को बता दें की यह कंप्युटर की optical drive होती है जिसके माध्यम से DVD या CD को drive.

आज कल के कुछ लैपटॉप में को मिल भी जाए तो वे DVD+/-RW drive pre-installed के रूप में आते है इसके माध्यम से आप Blank DVDs और CDs में data को write और read कर सकते है।

मैंने काफी लोगों को देखा है जो लैपटॉप तो ले लेनते है लेकिन बाद में उन्हे पता चलता है की optical driver तो है ही नहीं, इस लिए आप जब भी लैपटॉप लें, तो आप को क्या क्या फीचर चाहिए इसकी एक सूची जरूर बना लें।

USB Ports

USB ports मुख्यतः USB सम्बंधित चीजों को जोड़ने के लिए किया जात है, जैसे माउस, कीबोर्ड, मोबाईल deta केबल, etc. आप को जो भी USB सम्बंधित पोर्ट को connect करना है तो आप को USB का सहारा लेना पड़ेगा।

VGA port

इस तरह के पोर्ट का इस्तेमाल प्रजेक्टर या monitor को जोड़ने के लिए किया जाता है जिसका मुख्यतः काम ग्राफिक से सम्बंधित होता है।

External Ports

यदि आप अलग से कुछ ports का उपयोग करना चाहते है तो External Ports का उपोग कर सकते है, इसकी तब जरूरत पड़ती है जब आप के लैपटॉप में कुछ पोर्ट पहले से उपलब्ध नहीं हो या किसी कारण बस खराब हो गई हो।

Ethernet port

इसके माध्यम से आप अपने कंप्युटर से Ethernet cable से network से जोड़ सकते है, अब ओ नये लैपटॉप या रहे है उसमे से कुछ लैपटॉप में तो Ethernet cable ही नहीं लगा होता है इस तरह के लैपटॉप में wireless-G या wireless-N signal का इस्तमाल किया जाता है |

Video Card

विडिओ कार्ड को graphics cards के नाम से भी जाना जाता है, आप को बता दूँ की सभी कंप्युटर में graphics controller होता है जो कंप्युटर के basic video और graphics display को smoothly और quickly run करने में मदद करता है।

आज का हर तरह के कंप्युटर में Video Card लगा होता है लेकिन यदि आप games lover है तो फिर आप को एक अच्छे video cards और system memory की जरूरत पड़ेगी, इस लिए यदि आप लैपटॉप खरीद रहें है और आप के games lover है तो आप उसी लैपटॉप को लें जिसमे कम से कम 2 या 4 gb के video cards वाले ही लैपटॉप लें।

या मार्केट में अलग से gaming लैपटॉप भी आते है आप उसे लें, आप बेहतर विडिओ देख और गेम खेल पायेगे।

Laptop के फायदे – Advantages

Laptops के बहुत सारे advantages है जिसकी चर्चा आज हम इस article में करने वाले है यदि आप desktop यूजर है तो लैपटॉप लेने के बारे में जररू बिचार कारेगें।

  • Portable Device: – लैपटॉप एक Portable computer है इसे अप कहीं भी आसानी से ले कर यात्रा कर सकते है और अपने जरूरत के अनुसार उपोग कर सकते है।
  • Small Size: – लैपटॉप Size मे छोटा होने के साथ-साथ Desktop के वे सभी काम किए जा सकते है जो आप आमतौर पर desktop में करते हैं। आज के समय में इसे सबसे ज्यादा लोग इसके size के चलते ही पसंद करते है इसे आप ले कर यात्रा कर सकते है, इसे आप ले कर ऑफिस, स्कूल, कॉलेज, university, या किसी मीटिंग में ले कर जा सकते है।
  • Long Battery Life: – लैपटॉप पोर्टेबल के साथ साथ Long Battery Life होती है जिसके कारण आप बिना power supply के कहीं भी इसका इस्तमाल किया जा सकता है. खासकर यदि आप ऐसे जहग है जहां power supply की समस्या हो तो आप ऐसे जहग पर कम से कम 3-4 इसका इस्तेमाल कर सकते है।
  • Keyboard: – लैपटॉप में Keyboard inbuilt होता है जिसेक चलते अलग से किसी भी तरह के external Keyboard ले जाने की जरूरत नहीं होती।
  • Mouse: – लैपटॉप में keypad inbuilt होता है जिससे आप mouse का काम कर सकते हैं. इसके लिए external mouse जरुरत नहीं होती है।
  • Internal Speakers: लैपटॉप की एक और सबसे अहम खासियत होती है इसें लगा inbuilt speaker जिसे Internal Speakers भी कहते हैं. इसके चलते आपको अलग से external speaker ले जाने की कोई भी जरूरत नहीं होती है, ये इसकी सबसे बड़ी खासियत होती है।
  • WIFI: – लैपटॉप में Wi-Fi की एक ऐसी सुबिधा है जिसके माध्यम से आप Internet का इस्तेमाल कर सकते है और साथ ही एक device से दूसरे device में Files भी transfer कर सकते है ।
  • Bluetooth: – ब्लूटूथ जिससे हर कोई वाकिफ है इसके माध्यम से भी आप मोबाईल के माध्यम से कनेक्ट हो कर Internet का इस्तमाल कर सकते हैं, ज्यादा तर इस डिवाइस का ब्लूटूथ को कोनेक्ट कर म्यूजिक सुनने या Files transfer करने में किया जाता है।
  • Low Power: – यदि आप काफी समय Desktop यूजर होगें तो आप को ये बात अच्छे से पता होगा की Desktop कितना पावर का उपयोग करता है, आप की electricity भी ज्यादा आती होती लेकिन लैपटॉप के साथ इस तरह की कोई समस्या नहीं होती क्योंकी लैपटॉप Low power का उपयोग करता है।
  • Webcam: – आज कल के लगभग सभी लैपटॉप में Webcam मिल जाएगा, यदि आप को video calling करनी हो या फोटो क्लिप लेनी हो तो आप को Webcam की जरूरत पड़ती है जबकी लैपटॉप में integrated Webcam होती है, आप को अलग से external Webcam लेने की झंझट खत्म हो जाती है आप लैपटॉप के Webcam के उपयोग कर आसानी से आप video calling कर सकते हैं।

लैपटॉप के नुकसान – disadvantages

अब आप ये सोच रहें होंगे की भला इतने सारे Advantages के बीच भला disadvantages क्या हो सकता है ? चलिए हम जानते है लैपटॉप के disadvantages विषय में ।

  • Expensive: एक ही configuration के Desktop computers की तुलना में laptop बहुत ही ज्यादा expensive होता हैं।
  • No Health conscious: – लैपटॉप इतना user-friendly होता है की आप काफी समय तक इसके साथ काम कर सकते है जिसका असर आप के स्वास्थ्य पर दिखने लगती है जैसे की, इससे हमारे आखें, हाथ, पैरों, रीढ़ की हड्डीया इत्यादि में साफ-साफ असर दिखने लगता है।
  • Difficulty Repair: – यदि आप का एक बार लैपटॉप किसी कारण बस खराब हो जाता है तो इसका Repair Difficult हो जाता है, क्योंकी सभी चीजे लैपटॉप के अंदर integrated होती है जिसके चलते repair करने में आसानी नहीं होती है इसके components भी ज्यादा महगें होते हैं. और repair करने वाला भी ज्यादा चार्ज कर सकता है।
  • Security issue: लैपटॉप के साथ हमेसा से security की issue बनी रहती है, अगर आप सावधानी से रख रखाव नहीं है तो इसे आसानी से चोरी किया जा सकता है, जैसे मोबाईल चोरी हो जाती है क्योंकी मोबाईल भी एक पोर्टेबल डिवाइस है ठीक उसी प्रकार के security issue लैपटॉप के साथ रहता है।
  • Hardware upgradation: यदि आप अपने लैपटॉप में कोई भी नया हार्डवेयर upgrade करना चाहते है तो ये बहुत कठिन होता है कुछ भी Customization करना थोड़ा मुस्किल होता है, यदि आप को अपग्रेड करना नहीं जानते है तो फिर इसके लिए expert की मदद लेनी पड़ती है जिसका cost भी आप को देने पड़ सकते है।
  • Distraction: – Portable और user-friendly के चलते स्टूडें जो पढ़ने वाले लड़के है वे इसके जल्दी use to हो जाते है और लड़के इसे मनोरंजन का साधन बना लेते है जो एक distraction का कारण बन जाता है मतलब पढ़ाई कम और मनोरंजन ज्यादा होने लगता है।
  • Damage Chances: – लैपटॉप इतना ज्यादा user-friendly और Portable होता है के कारण इसके Damage होने के Chances बहुत ज्यादा चांस होता है इसके damage के मुख्य कारण जैसे, गलती से पानी, juice, चाय इत्यादि लैपटॉप पर गिर जाना इसके मुख्य कारण है, इस लिए आप जब भी लैपटॉप का उपयोग करें इन सब चीजों को अपने से दूर ही रखें.

यदि आप इस सब चीजों से इसे बचा लेते है तो तब तो आप के लिए ये सबसे अच्छा और उपयोग है, लेकिन जो नयेबंदे होते है वे अक्सर ये गलती कर ही बैठते है।

Laptop लेने से पहले किन इन बातों का रखें ध्यान

यदि आप का नॉर्मल उपयोग है तो आप traditional या Rugged लैपटॉप ले सकते है, लेकिन यदि मेरे अनुभव के सानुसार एक नॉर्मल उपोग के लिए लैपटॉप लेना चाहते है तो Notebook या Ultraportable लैपटॉप ही लें ये काफी बेहतर होते है।

यदि आप थोड़े ज्यादा काम करते है जैसे आप software developer, graphic designer, video mixing का काम है तो आप Business laptop या MacBook लें ssd के साथ।

वैसे आप Notebook या Ultraportable से भी ये सब काम कर सकते है यदि उसमे ssd लगा हो और साथ ही 8 gb ram हो लेकिन यदि आप लंबे समय तक काम करना चाहते है और आप software developer, graphic designer, video mixing का काम करते है तो आप के लिए Business या gaming लैपटॉप बेहतर है।

जब आप Notebook लैपटॉप खरीदने जायेगे तो इतने सारे variety के लैपटॉप उपलब्ध होते है की यदि आप को लैपटॉप के बारे में जानकारी नहीं है तो आप को सही लैपटॉप जल्दी नहीं लें पायेगे। लेकिन business laptop में ऐसी कोई परेसनी नहीं होती।

क्या Desktop computers की तुलना में laptop slow होते है?

वैसे ये बात सच है की लैपटॉप जो की डेस्कटॉप computer से स्लो होते है, और साथ ही कम capable भी, आप desktop computer को आसानी से advance computer में convert कर सकते है लेकिन लैपटॉप के साथ ऐसा नहीं है ।

यदि आप high-end laptops जो की एक powerful laptop होता है अगर इसकी बात करें तो इस तरह के लैपटॉप काफी कीमती होते है, जिसमें बहुत सारे feature होते है। इस तरह के लैपटॉप काफी अच्छे काम करते है।

यदि आप एक लंबे समय तक काम करना चाहते है तो Desktop काफी ज्यादा आरामदायक होता है laptop की तुलना में।

Desktop computers तुलना में Laptop computers महगें क्यों होते है?

Desktop computers की तुलना में Laptop computers की कीमत बहुत ही ज्यादा होती है इसका सबसे बड़ी कारण है manufacture design, features, displays और capabilities जो इसे महगें बना देती है। इसमे जो displays का इस्तमाल होता है वो thin-screen technology का इस्तमाल करता है. जो एक बहुत ही बेहतर views प्रदान करता है। ये thin film transistor या active matrix screen बहुत ही brighter होते हैं।

लैपटॉप के साथ सबकुछ inbuild होता है जैसे mouse, keyboard, touch pad, serial port, PC Card, insertable hardware, inbuild हार्ड ड्राइव, wifi interface, CD-ROM, DVD (digital versatile disc) drives और ऐसे बहुत से feature जो की एक लैपटॉप को महगें बना देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap