Thursday, April 18Welcome to hindipatrika.in

सोशल मीडिया युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है? क्या जीवन में ‘जहर’ घोल रहा सोशल मीडिया ?

सोशल मीडिया पर अत्यधिक समय व्यतीत करने से मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, खासकर उन लोगों के लिए जो सामाजिक तुलना के प्रति संवेदनशील हैं या जो अपर्याप्तता या कम आत्मसम्मान की भावनाओं का अनुभव करते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि अत्यधिक सोशल मीडिया का उपयोग अवसाद, चिंता और नींद की खराब गुणवत्ता के लक्षण पैदा कर सकता है।

एक अध्ययन के अनुसार रोजाना 7 घंटे सोशल मीडिया पर बिताना अत्यधिक हो सकता है। यह व्यसन, कम सामाजिक संपर्क, अध्ययन, कार्य या अन्य गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने और एकाग्रता की कमी को जन्म दे सकता है। यह कम आत्मसम्मान और आत्म-मूल्य की ओर भी ले जाता है। इसके अलावा, पसंद, शेयर और टिप्पणियों की जांच करने की निरंतर आवश्यकता अपर्याप्तता की भावनाओं में योगदान कर सकती है, खासकर अगर व्यक्ति को अपेक्षा से कम लाइक या शेयर प्राप्त होते हैं।

बिस्तर में भी मोबाइल फोन का लगातार उपयोग नींद के पैटर्न को बिगाड़ सकता है, जिससे नींद की गुणवत्ता खराब हो सकती है। नींद की कमी का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है और थकान, चिड़चिड़ापन और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई जैसे लक्षण पैदा हो सकते हैं।

व्यक्तियों के लिए अपने सोशल मीडिया के उपयोग के बारे में जागरूक होना और इसे प्रबंधित करने के लिए कदम उठाना महत्वपूर्ण है, जैसे कि सोशल मीडिया पर खर्च किए जाने वाले समय की सीमा निर्धारित करना, नियमित ब्रेक लेना और सोने से एक घंटे पहले सोशल मीडिया के उपयोग से बचना। इसके अतिरिक्त, व्यक्तियों के लिए आत्म-करुणा का अभ्यास करना और सोशल मीडिया पर दूसरों के साथ अपनी तुलना नहीं करना महत्वपूर्ण है।

सबसे ज्यादा असर महिलाओं पर 

जी हां, अध्ययनों से पता चला है कि लड़कियां और युवतियां मानसिक स्वास्थ्य पर सोशल मीडिया के नकारात्मक प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकती हैं। उनकी सोशल मीडिया पर खुद की तुलना दूसरों से करने और अपर्याप्तता या कम आत्मसम्मान की भावनाओं का अनुभव करने की अधिक संभावना हो सकती है। उन्हें साइबरबुलिंग और उत्पीड़न का अनुभव होने की अधिक संभावना हो सकती है, जिसका उनके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

शोध में पाया गया है कि सोशल मीडिया का उपयोग किशोर लड़कियों में अवसाद, चिंता, शरीर की छवि के मुद्दों और कम आत्म-सम्मान की बढ़ती दरों से जुड़ा है। वे खुद की दूसरों से तुलना करने और अपर्याप्तता की भावनाओं का अनुभव करने की अधिक संभावना रखते हैं, जिससे नकारात्मक शरीर की छवि, अवसाद और चिंता हो सकती है।

इसके अतिरिक्त, लड़कियों को साइबरबुलिंग और ऑनलाइन उत्पीड़न का अनुभव होने की भी अधिक संभावना है, जिससे अवसाद, चिंता और कम आत्मसम्मान सहित कई नकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य परिणाम हो सकते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य पर सोशल मीडिया के संभावित नकारात्मक प्रभावों के बारे में जागरूक होना और अपने सोशल मीडिया के उपयोग को प्रबंधित करने के लिए कदम उठाना लड़कियों और युवा महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है। इसमें सोशल मीडिया पर खर्च किए जाने वाले समय की सीमा निर्धारित करना, सोने से एक घंटे पहले सोशल मीडिया के उपयोग से बचना और आत्म-करुणा का अभ्यास करना शामिल हो सकता है। इसके अतिरिक्त, लड़कियों और युवतियों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि यदि वे साइबरबुलिंग या उत्पीड़न का अनुभव करती हैं तो वे मदद लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap