Thursday, April 18Welcome to hindipatrika.in

दिल का दौरा – मौत का बड़ा कारण ? क्या कहता है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

दिल का दौरा, जिसे मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन(myocardial infarction) के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब हृदय के एक हिस्से में रक्त का प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है, आमतौर पर कोरोनरी धमनियों में प्लाक का निर्माण होता है। यह हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचा सकता है और अगर तुरंत इलाज न किया जाए तो यह जानलेवा हो सकता है। दिल का दौरा पड़ने के सबसे आम लक्षण हैं सीने में दर्द या बेचैनी, बाहों, कंधों, जबड़े, गर्दन या पीठ में दर्द, सांस की तकलीफ और पसीना। हालांकि, दिल का दौरा पड़ने वाले सभी लोगों में समान लक्षण नहीं होते हैं और कुछ लोगों में बिल्कुल भी लक्षण नहीं हो सकते हैं।

hart attack
Heart Attack

दिल का दौरा – मौत का बड़ा कारण ?

दिल का दौरा दुनिया भर में मौत का एक प्रमुख कारण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, हर साल 17.9 मिलियन लोग हृदय रोग से मरते हैं, जो कि सभी वैश्विक मौतों का 31% है। कोरोनरी हृदय रोग, जो एक प्रकार का हृदय रोग है जो कोरोनरी धमनियों में प्लाक के निर्माण के कारण होता है, दिल के दौरे का प्रमुख कारण है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दिल के दौरे सहित हृदय रोग (सीवीडी) भारत में मृत्यु का प्रमुख कारण हैं। 2016 में, भारत में लगभग 2.8 मिलियन मौतें सीवीडी के कारण हुईं। बढ़ती आबादी, शहरीकरण और जीवन शैली में बदलाव सहित कारकों के संयोजन के कारण आने वाले वर्षों में भारत में सीवीडी की व्यापकता बढ़ने का अनुमान है।

नेशनल हेल्थ प्रोफाइल 2019 के अनुसार, 2017 में भारत में कोरोनरी धमनी रोग (सीएडी) के लगभग 2.9 मिलियन मामले सामने आए थे। कार्डिएक अरेस्ट भी भारत में एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता है, जिसमें कार्डिएक अरेस्ट के कारण सालाना 1.4 मिलियन मौतें होती हैं। .

भारत में दिल के दौरे के जोखिम कारकों में तंबाकू का उपयोग, अस्वास्थ्यकर आहार, शारीरिक निष्क्रियता और उच्च रक्तचाप शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, भारत में मधुमेह का उच्च प्रसार है, जो दिल के दौरे के लिए एक अन्य प्रमुख जोखिम कारक है।

भारत में दिल के दौरे की रोकथाम और नियंत्रण के उपायों में स्वस्थ जीवन शैली की आदतों को बढ़ावा देना शामिल है, जैसे नियमित शारीरिक गतिविधि, स्वस्थ भोजन और तंबाकू के सेवन से बचना; उच्च रक्तचाप, मधुमेह और हाइपरलिपिडिमिया जैसे जोखिम कारकों का शीघ्र पता लगाना और प्रबंधन करना; और दिल का दौरा पड़ने वाले लोगों के लिए समय पर और उचित देखभाल तक पहुंच प्रदान करना।

कुल मिलाकर, भारत में दिल का दौरा एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता बनी हुई है, और इस बीमारी के बोझ को कम करने के लिए जोखिम कारकों को दूर करने और देखभाल तक पहुंच में सुधार के प्रयासों की आवश्यकता है।

क्या है साइलेंट हार्ट अटैक ?

साइलेंट हार्ट अटैक, जिसे “साइलेंट मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन” (SMI) के रूप में भी जाना जाता है, एक दिल का दौरा है जो व्यक्ति को सीने में दर्द जैसे विशिष्ट लक्षणों का अनुभव किए बिना होता है। मधुमेह वाले लोगों में यह अधिक आम है, क्योंकि उच्च रक्त शर्करा का स्तर रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ा सकता है। मधुमेह हृदय रोग का एक प्रमुख कारण है, और मधुमेह वाले लोगों को दिल का दौरा या स्ट्रोक होने का अधिक खतरा होता है। मधुमेह वाले लोगों में हृदय रोग की शुरुआत को रोकने या देरी करने के लिए रक्त शर्करा के स्तर की नियमित निगरानी और अच्छा रक्त शर्करा नियंत्रण बनाए रखना महत्वपूर्ण है। अन्य महत्वपूर्ण उपायों में नियमित व्यायाम, स्वस्थ आहार बनाए रखना, धूम्रपान न करना और मोटापे से बचना शामिल है।

हार्ट अटैक के महत्त्वपूर्ण कारण 

दिल के दौरे के जोखिम कारकों में उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, धूम्रपान, मधुमेह, मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी और हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास शामिल हैं। इसलिए, स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखना, स्वस्थ आहार का पालन करना, नियमित रूप से व्यायाम करना, धूम्रपान से बचना और शराब के सेवन को सीमित करना और दिल के दौरे के जोखिम को कम करने के लिए किसी भी अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियों का प्रबंधन करना महत्वपूर्ण है।

  • Coronary artery disease:

यह दिल के दौरे का सबसे आम कारण है। यह तब होता है जब हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियां पट्टिका के निर्माण से संकुचित या अवरुद्ध हो जाती हैं, जो कोलेस्ट्रॉल और अन्य पदार्थों से बना होता है। यह हृदय में रक्त के प्रवाह को कम या काट सकता है, जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है।

  • Atherosclerosis:

 यह एक ऐसी स्थिति है जहां धमनियों की अंदरूनी परत प्लाक के निर्माण के कारण मोटी और सख्त हो जाती है। इससे कोरोनरी धमनियां संकुचित या अवरुद्ध हो सकती हैं और दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ सकता है।

  • Hypertension (high blood pressure):

उच्च रक्तचाप हृदय पर अतिरिक्त दबाव डाल सकता है और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ सकता है।

  • Diabetes:

मधुमेह(Diabetes) हृदय रोग का एक प्रमुख कारण है, और मधुमेह वाले लोगों को दिल का दौरा या स्ट्रोक होने का अधिक खतरा होता है। उच्च रक्त शर्करा का स्तर रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे कोरोनरी धमनियों में पट्टिका का निर्माण हो सकता है। इससे दिल का दौरा या स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।

  • Smoking:

धूम्रपान रक्त वाहिकाओं(Blood Vessels) को नुकसान पहुंचाता है और धमनियों में पट्टिका के निर्माण का खतरा बढ़ जाता है, जिससे दिल का दौरा पड़ सकता है।

यह उल्लेखनीय है कि इन जोखिम कारकों के संयोजन से दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ सकती है, और उन्हें पहचानने और प्रबंधित करने के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ काम करना महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap