Tuesday, October 3Welcome to hindipatrika.in

भारत में कैंसर की सुनामी की चेतावनी | भारत में दुनिया के 20% कैंसर मरीज, डॉक्टरों की चेतावनी

कैंसर भारत में मौत का एक प्रमुख कारण है, आने वाले वर्षों में इस बीमारी की दर बढ़ने की उम्मीद है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के एक अध्ययन के अनुसार, भारत में कैंसर के मामलों की संख्या 2020 तक 1.5 मिलियन से अधिक और 2025 तक 2 मिलियन से अधिक होने का अनुमान है। अध्ययन में यह भी अनुमान लगाया गया है कि कैंसर 2020 तक भारत में सालाना 800,000 से अधिक मौतों का कारण।

ऐसी कई आदतें हैं जो भारत में कैंसर के बढ़ते जोखिम में योगदान कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

-तंबाकू का उपयोग: धूम्रपान और चबाने वाला तंबाकू भारत में कैंसर के लिए प्रमुख जोखिम कारक हैं, विशेष रूप से फेफड़े, मौखिक और गले के कैंसर के लिए।

खराब आहार: प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, चीनी और संतृप्त वसा में उच्च आहार कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है, साथ ही मोटापे में योगदान कर सकता है, जो कैंसर के लिए भी एक जोखिम कारक है।

-शारीरिक गतिविधि की कमी: शारीरिक निष्क्रियता कैंसर और अन्य पुरानी बीमारियों के विकास में योगदान कर सकती है।

-वायु प्रदूषण: वायु प्रदूषण भारत में एक प्रमुख स्वास्थ्य चिंता है और फेफड़ों के कैंसर और अन्य श्वसन रोगों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है।

-शराब का सेवन: अत्यधिक शराब के सेवन से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है, खासकर लीवर, गले और मुंह के।

भारत में कैंसर के खतरे को कम करने के लिए, लोगों के लिए स्वस्थ जीवन शैली पसंद करना महत्वपूर्ण है, जैसे धूम्रपान छोड़ना और तंबाकू चबाना, स्वस्थ आहार खाना, नियमित शारीरिक गतिविधि करना और शराब का सेवन सीमित करना। सरकार के लिए वायु प्रदूषण को कम करने और स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देने के लिए नीतियों को लागू करना भी महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, कैंसर का शीघ्र पता लगाने और स्क्रीनिंग से सफल उपचार की संभावना को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कैंसर एक जटिल बीमारी है और इसके विकास में योगदान देने वाले कई कारक हैं, जीवनशैली में बदलाव ही एकमात्र समाधान नहीं है, लेकिन वे निश्चित रूप से कैंसर के जोखिम को कम करने में एक प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं।

Cancer होने के महत्त्वपूर्ण कारण

हां, जिन आदतों और कारकों का मैंने पहले उल्लेख किया है वे कैंसर के बढ़ते जोखिम में योगदान कर सकते हैं। कुछ अन्य कारक जो कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं उनमें शामिल हैं:

-कुछ रसायनों और विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आना, जैसे कि कीटनाशक और एस्बेस्टस

-विकिरण के संपर्क में आना, जैसे सूर्य से पराबैंगनी विकिरण या चिकित्सा प्रक्रियाओं से विकिरण विकिरण

-कुछ वायरल संक्रमण, जैसे ह्यूमन पेपिलोमावायरस (एचपीवी) और हेपेटाइटिस बी और सी

-कैंसर का पारिवारिक इतिहास

-कुछ विरासत में मिले आनुवंशिक उत्परिवर्तन जो कुछ प्रकार के कैंसर के जोखिम को बढ़ाते हैं

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये सभी कारक सभी पर लागू नहीं हो सकते हैं, और कुछ लोगों को कारकों के संयोजन के कारण कैंसर होने का अधिक जोखिम हो सकता है। इसके अतिरिक्त, यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि कुछ कैंसर अनायास हो सकते हैं और उनका कारण अभी तक ज्ञात नहीं है।

जीवनशैली में बदलाव करके, कैंसर की जांच करवाकर, और कोई लक्षण या चिंता होने पर डॉक्टर से परामर्श करके सावधानी बरतना और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap