Friday, June 24Welcome to hindipatrika.in

जीवन के उलझन

 

उलझन एक अजीब है , जब उलझे संसार |
प्रेम में उलझन , बनती बात ,
प्रेम  उलझकर बना ओ प्यार , इतना सुन्दर ये संसार ||
प्रेम रूपी जब दीप जला तो , खुशियों से खिलता संसार |
खुशिया बहुत निराली है , जब  उलझन बनता प्यार ही प्यार ||
जब उलझन होता झगड़ो का , तब दुनिया बनती खड़हर सा |
इश दुनियाँ (परिवार) में दीप न जलता , तो लगता है आया काल |
काल रूपी जब दीप जला तो , खुशियाँ बनती है जौजाल ||
जब खुशियाँ उठती है ऊपर , तो आते है काल का छाँव |
इश छाँव में जल जाते है , ऊपर -ऊपर के ही पाँव ||
तो लगे कबारन(उजागर)  उन मुर्दो(बात)  को , जो खुशिओं से दबे पड़े थे |
जब कबरन को मुर्दे लागे, तो लागे संसार की दुरी भागे |
छांट – छूँट कर , बाट बूट कर , अलगा हुवा यही संसार |- 2 |
एक ही खून के दो जन्मे थे , लेकिन बात नहीं बनते थे |
एक लगा कुछ बोलन लागे , दूसरा बोलन जोर से लागे ||
इशी बीच में हो गई मार ,
मार मार में हुयी बखेड़ा , बात बढ़ी फैलन को लागे |
तो लगे काबरन उन सब मुर्दो (बात) को , जो न जानत था संसार (समाज) ||
एक कहाँ आव ना आगे , दूसरा कहाँ तू कहें भागे |
यह उलझन ना सुलझ सका , तब  ||
अलग हुवा यही संसार(परिवार)  , अलग हुवा यही संसार (परिवार ) ||

  • Mukesh Chakarwarti     

resorce – http://mukeshchakarwarti.blogspot.in/2016/11/jiwan-ke-uljhan-Confusion-oflife.html



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap