Saturday, June 25Welcome to hindipatrika.in

मच्छर दाता – मलेरिया के बिधाता

                                                                                                       

                                                                               हे रातों के मच्छर दाता,

           तू ही मलेरिया का है बिधाता |

तू चाहें तो रात बिता दे,

      तू चाहें तो रात भर जगा दें |

तेरी दया जहाँ जाती है ,

      वहां कृपया रहता है तुम्हारा |

तेरा घर तो नाला – नाली

      नदी, तालाब, और गंदे पानी |

तू तो दिन वही बिताता,

      रात को मेरे घर में आता |

ऊँ ऊँ कर बाते तू करता,

      तू तो सबसे है कुछ कहता |

तेरी बाते बहुत निराली,

ऊ ऊ वाली बाते प्यारी |

      तेरी बाते जो ना सुनता

उसको तू देता है दण्ड |

हे रातों के मच्छर दाता,

तू ही मलेरिया का है बिधाता |

                                                       – Mukesh Chakarwarti

 Follow on twitter – @mukeshchakarwar 



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap