Monday, June 27Welcome to hindipatrika.in

एक बालक की पुकार




नोट – घर पर कोई नहीं है रात का समय है एक बालक अकेले घर पर है और डरा हुवा है , अन्धकार के चलते आकाश के चाँद – सितारों को मना रहा है , उनको फुसिला रहा है अपने मीठी बातों से ।

आजा तारे -चाँद सितारे ,
आजा मेरे घर पर ।
मेरे घर को तू चमकादे ,
अंधियारा तू दूर भगा दे ।
अच्छा नहीं लगता अंधियारा ,
तू हीं लगता है मुझे प्यारा ।
आजा तारे – चाँद सितारे ,
आजा मेरे घर पर ।
तेरे बिना ना पढ़ सकता मैं ,
तेरे बिना ना रह सकता मैं ।
कैसे मैं तुझे मनाऊँ ,
कैसे कर मैं तुझे समझाऊँ ।
मैं तुमसे बिनती करता हूँ, तुमसे मैं रो कर कहता हूँ ।
हे आकाश के चाँद -सितारे , सुन ले ईश बालक की बाते ,
कर दे तू अँधियारा दूर , कर दे तू अँधियारा दूर ।

  • Mukesh Chakarwarti

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link
Powered by Social Snap